बिहार एक परिचय 2 (बिहार का भूगोल)

Bookmark and Share

Click on the Link to Download बिहार एक परिचय 2 PDF

प्रस्तावना
बिहार लोक सेवा आयोग के परीक्षा में 10 से 15 प्रश्न बिहार से सम्बंधित आते है | इनमे से कुछ प्रश्न की प्रकृति तथ्यात्मक होती है जिसे याद करने का एक ही विकल्प है उसे रट्टा मारना| इस लेख में बिहार के भूगोल बारे में कुछ परीक्षा उपयोगी तथ्य का संग्रह किया गया है |

बिहार का भूगोल

  • अक्षांशीय विस्तार – 24° 20′ 50”से 27° 31′ 15” उत्तरी अक्षांश
  • देशांतरीय विस्तार – 83° 19′ 50”से 88° 17′ 40” पूर्वी देशांतर
  • आकृति – आयताकार
  • क्षेत्रफल – 94163 वर्ग किलो मी .
  • लंबाई (उत्तर से दक्षिण ) –345 किमी
  • चौड़ाई -(पूर्व से पश्चिम) –483 किमी
  • औसत ऊंचाई – समुद्र तट से 52 .73 मी.
  • सीमाएं – उत्तर में नेपाल(7 जिलों से सीमा बनाती है ) ,दक्षिण में झारखण्ड(9 जिलों से ) , पूर्व में पश्चिम बंगाल (3 जिलों से ),पश्चिम में उत्तर प्रदेश (7 जिलों से )
  • बिहार की जलवायु – मानसूनी
  • औसत वर्षा – 112 से.मी.
  • शुद्ध बोया गया क्षेत्र – 56,94,642हेक्टेयर,60.48 प्रतिशत
  • गैर कृषि कार्यों में लगी भूमि –16,35,467 हेक्टेयर ,17.37 प्रतिशत
  • ऊसर या गैर कृषि योग्य भूमि – 4,36,503 हेक्टेयर ,4.64 प्रतिशत
  • स्थायी चारागाह –18,356 हेक्टेयर ,0.19 प्रतिशत
  • विविध पेड़ व बगीचा – 2,30,286 हेक्टेयर , 2.45 प्रतिशत
  • बाढ़ प्रवाहित क्षेत्र – 64.41 लाख हेक्टेयर

बिहार की संरचना व उनका विस्तार –

  • धारवाड़ चट्टान – गया ,नवादा , जमुई ,मुंगेर , बांका
  • विंध्यन समूह की चट्टानें – कैमूर, रोहतास
  • टर्शियरी चट्टानें – पश्चिमी चंपारण
  • क्वार्टरनरी काल की चट्टानें – गंगा के मैदानी भागों में

बिहार में वन

  • कुल भौगोलिक क्षेत्र – 94,163 sq km
  • कुल वन क्षेत्र – 7,288 sq km
  • वन का क्षेत्रफल प्रतिशत में – 7.74%
  • अति सघन वन क्षेत्र – 248 sq km
  • राज्य में संरक्षित वन क्षेत्र – 3208.47 sqkm
  • राज्य में गैर संरक्षित वन क्षेत्र – 76.3 sqkm
  • राष्ट्रीय पार्क – 1, वाल्मिकीनगर
  • वन्य जिव अभ्यराण्य – 11
  • बिहार में सर्वाधिक वन क्षेत्र वाले जिले – कैमूर ,प चंपारण
  • बिहार में न्यूनतम वन क्षेत्र वाले जिले – शिवहर ,शेखपुरा
  • बिहार में वन के प्रकार – दो (आद्र पर्णपाती व शुष्क पर्णपाती वन)
  • आद्र पर्णपाती वन के वृक्ष – शीशम, शेलम, शाल, खैर
  • शुष्क पर्णपाती वन के वृक्ष – महुआ, आम, कटहल, जामुन

बिहार के प्रमुख अभ्यारण्य व सम्बंधित जिले

  • वाल्मिकीनगर राष्ट्रीय उद्यान – प. चंपारण
  • वाल्मिकी आश्रयणी – प. चंपारण
  • गौतम बुद्ध अभ्यारण्य – गया
  • भीम बांध अभ्यारण्य – मुंगेर
  • विक्रमशीला गंगा डॉलफिन अभ्यारण्य – भागलपुर
  • कैमूर अभ्यारण्य – रोहतास (बिहार का सबसे बड़ा अभ्यारण्य)
  • पन्त अभ्यारण्य – नालंदा
  • परमार डॉल्फिन अभ्यारण्य – अररिया
  • कावर पक्षी विहार – बेगूसराय
  • कुशेश्वर पक्षी विहार – दरभंगा
  • गोगाबिल पक्षी विहार – कटिहार
  • नागी डैम व नकटी डैम पक्षी विहार – जमुई
  • सुहियान पक्षी विहार – भोजपुर
  • संजय गाँधी जैविक उद्यान – पटना
  • हरिया बारा हिरण पार्क – अररिया

बिहार में सिंचाई

  • कुल सिंचित क्षेत्र – 45,50,244 हेक्टेयर
  • सिंचित क्षेत्र (प्रतिशत में) – 48.33%
  • सिंचाई के मुख्य स्रोत- नलकूप , नहरें ,तालाब , कुआं,जलमग्न गड्ढ़े
  • नलकूप द्वारा सिंचित भूमि का प्रतिशत – 55.4 %
  • नहर द्वारा सिंचित भूमि का प्रतिशत – 34 %
  • तालाब द्वारा सिंचित भूमि का प्रतिशत – 3.2 %
  • कुआं द्वारा सिंचित भूमि का प्रतिशत – 0.5 %
  • अन्य साधनों द्वारा सिंचित भूमि का प्रतिशत – 6.5 %
  • वृहद सिंचाई परियोजना की सिंचाई क्षमता – 10,000 हेक्टेयर से अधिक (कमांड क्षेत्र)
  • माध्यम सिंचाई परियोजना की सिंचाई क्षमता – 2000 से 10000 हेक्टेयर
  • लघु सिंचाई परियोजना की सिंचाई क्षमता – 2000 हेक्टेयर से कम
  • सर्वाधिक सिंचित भूमि वाला जिला – शेखपुरा
  • न्यूनतम सिंचित भूमि वाला जिला – जमुई
  • नहर सिंचाई में अग्रणी जिलें – रोहतास , प. चंपारण
  • नहर द्वारा न्यूनतम सिंचाई वाले जिलें – मुजफ्फरपुर , वैशाली

बिहार की प्रमुख सिंचाई परियोजनाएं एवं नहरें

1 . सोन बहुद्देशीय परियोजना – 1874

    प्रमुख नहरें –

  • पूर्वी सोन नहर- (औरंगाबाद , अरवल ,पटना ,गया , जहानाबाद )
  • प. सोन नहर – (आरा , बक्सर ,रोहतास )

2 . गंडक परियोजना (त्रिवेणी)-1904

  • मुख्य बांध – वाल्मिकीनगर डैम
  • मुख्य नहरें

  • प. नहर -(गोपालगंज ,सारण,सिवान)
  • पूर्वी नहर या तिरहुत नहर – (पश्चिमी व पूर्वी चंपारण , मुजफ्फरपुर ,वैशाली )

3 . कोशी बहुद्देशीय परियोजना – 1954 -55

  • मुख्य बांध– हनुमार नगर बांध
  • मुख्य नहरें – पूर्वी कोशी नहर (पूर्णिया , अररिया )

बिहार की नवीनतम सिंचाई परियोजनाएं एवं सम्बंधित जिलें

  • बरनाल जलाशय योजना – भागलपुर ,जमुई
  • उत्तर कोयल जलाशय योजना – गया , औरंगाबाद
  • पुनपुन बैराज योजना – औरंगाबाद, गया, पटना ,जहानाबाद
  • बटेश्वरनाथ पम्प नहर योजना – भागलपुर
  • जमानिया पम्प नहर योजना – कैमूर
  • अपर किउल जलाशय योजना – मुंगेर , लखीसराय
  • तिलैया डायवर्सन योजना – गया, नवादा
  • दुर्गावती जलाशय योजना – रोहतास , कैमूर
  • बटाने जलाशय योजना – औरंगाबाद
  • बागमती परियोजना – सीतामढ़ी

बिहार की नदियां व उनके उदगम स्थान

    गंगा – गंगोत्री
    घाघरा या सरयू – मचपाचुंग ,तिब्बत
    गंडक – सप्तगंडकी नेपाल
    बूढी गंडक – सोमेश्वर श्रेणी
    बागमती – महाभारत श्रेणी ,नेपाल
    कमला – महाभारत श्रेणी , नेपाल
    कोसी – सप्तकौशिकी ,नेपाल
    महानंदा – मकलादियाराम , दार्जलिंग
    कर्मनाशा – विंध्याचल पहाड़ी
    सोन – अमरकंटक
    पुनपुन – चोराहा पहाड़ी , पलामू
    फल्गु – हजारीबाग पठार
    पंचानेन – उत्तरी छोटानागपुर
    सकरी – उत्तरी छोटानागपुर
    अजय – बटपाड़ , चकाई,जमुई

बिहार के जलप्रपात

प्रमुख झरने ,जलकुंड व उनके उदगम स्थल

  • सप्तधारा या सतघरवा – राजगीर
  • ब्रह्मकुंड – राजगीर
  • सूर्यकुंड – राजगीर
  • नानक कुंड – राजगीर
  • मख दुम कुंड – राजगीर
  • गोमुख कुंड – राजगीर
  • लक्ष्मण कुंड – मुंगेर
  • सीता कुंड – मुंगेर
  • रामेश्वर कुंड – मुंगेर
  • ऋषि कुंड – मुंगेर
  • जन्म कुंड – मुंगेर
  • श्रृंगार ऋषि कुंड – मुंगेर
  • भरारी कुंड – मुंगेर
  • अग्नि कुंड – गया

  1. अक्षांशीय विस्तार – 24° 20′ 10”से 27° 31′ 15” उत्तरी अक्षांश

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*