उग्रवादी क्रांतिकारी

Bookmark and Share

प्रस्तावना
भारत में क्रांतिकारी आतंकवाद का विकास दो चरणों में हुआ | पहला चरण स्वेदेशी आंदोलन के बाद शुरू हुआ और दूसरा चरण लगभग 1920 के आस पास |
क्रांतिकारी आतंकवाद को पढ़ते समय हम upsc में गत वर्षों में पूछे गए प्रश्नों की प्रकृति के आधार पर अपनी पढाई करेंगे | गत वर्षों में इस टॉपिक से प्रारंभिक परीक्षा में तथ्यात्मक प्रश्न अधिक पूछे जाते है — जैसे क्रांतिकारी लीडर का नाम ,उनसे जुड़ी संस्थाएं ,उनके द्वारा किए गए कार्य व घटनाएं | कौन से क्रांतिकारी किस क्षेत्र से थे ,उनके द्वारा लिखी गई पुस्तक, पत्रिका के नाम आदि |हम इस लेख में इसी के इर्द गिर्द चीज़ों को समझने की कोशिश करेंगे |

क्रांतिकारी आतंकवाद के विकास का कारण–
क्रांतिकारी आतंकवाद के विकास के निम्न कारण थे —

  • आतंकवादी राष्ट्रवाद – अर्थात क्रन्तिकारी अपने राष्ट्रवाद को दिखाने के लिए कोई भी रास्ता अपनाने को तैयार थे भले ही वह हिंसा का रास्ता ही क्यों न हो |
  • स्वदेशी एवं बहिष्कार आंदोलन के असफलता के कारण युवाओं का रुझान आतंकवाद की तरफ गया |
  • युवा अपनी राष्ट्रवादी ऊर्जा की अभिव्यक्ति के लिए क्रन्तिकारी आतंकवाद जैसे मंच से जुड़ गए |
  • उग्रवादियों के उग्र तेवर भी क्रांतिकारी आतंकवाद के उदय में सहायक रहे |
  • क्रांतिकारी गतिविधियां —

    बंगाल में
    बंगाल में क्रांतिकारियों का प्रथम गुप्त संगठन अनुशीलन समिति था ,जिसका गठन 1902 में किया गया|मिदनापुर में ज्ञानेंद्र नाथ बसु ने इसकी स्थापना की |जबकि कलकत्ता में इसका गठन पी. मित्र ने किया|अनुशीलन समिति से जुड़े अन्य सदस्य थे – जतींद्र नाथ बनर्जी ,बारीन्द्र कुमार घोष एवं भूपेन्द्रनाथ दत्त |बारीन्द्र कुमार घोष एवं भूपेन्द्रनाथ दत्त ने युगांतर नामक पत्रिका निकाला |
    मुजफ्फरपुर षड्‍यंत्र कांड
    1908 में मुजफ्फरपुर जिले के न्यायधीश किंग्सफोर्ड पर खुदीराम बोस व प्रफुल्ल चाकी ने उसके हत्या के उद्देश्य से बम फेंका |लेकिन गलती से बम कैनेडी की गाड़ी पर लग गई जिससे दो महिलाएं मारी गई |इसके बाद प्रफुल्ल चाकी और खुदीराम बोस पकड़े गए | प्रफुल्ल चाकी ने आत्महत्या कर ली और खुदीराम बोस को फांसी की सजा दी गई |

    अलीपुर षड्‍यंत्र कांड
    सरकार ने मनीकटोला उद्यान एवं कलकत्ता में अवैध हथियारों की तलाशी के लिए अनेक स्थानों पर छापे मारे तथा 34 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया | इनमे से दो बंधु अरविन्द घोष तथा बरिंद्र घोष भी शामिल थे|इनपर अलीपुर षड्‍यंत्र कांड का अभियोग चलाया गया |

    महाराष्ट्र –

  • महाराष्ट्र में क्रांतिकारी गतिविधियों का आरम्भ वासुदेव बलवंत फड़के के रामोसी कृषक दल ने किया |इस दल ने सशस्त्र विद्रोह के ज़रिए देश से अंग्रेजों को खदेड़ने की योजना बनाई |अपने उद्देश्य की पूर्ति के लिए उन्होंने संचार सेवा को ठप्प करने का प्रयास किया और आतंकवादी गतिविधियों के लिए अनेक स्थानों पर डकैतियां डाली |
  • बाल गंगाधर तिलक ने लोगों में स्वराज्य के प्रति प्यार और अंग्रेज़ विरोधी भावना जगाने के लिए गणपति त्यौहार और शिवजी त्यौहार मनाया |उन्होंने अपने समाचार पत्र मराठा और केसरी में अनेक पत्र लिखे |
  • महाराष्ट्र के दो भाई दामोदर चापेकर और बालकृष्ण चापेकर ने 1897 में पूना में प्लेग समिति के प्रधान रैंड एवं एयर्स्ट की हत्या कर दी |बाद में चापेकर बंधू पकड़े गए और उन्हें फांसी की सजा दी गई |
  • 1899 में विनायक दामोदर सावरकर और गणेश दामोदर सावरकर ने मित्र मेला का गठन किया , जिससे 1904 में अभिनव भारत की स्थापना हुई |


  • पंजाब –

  • पंजाब में क्रांतिकारी आतंकवाद के उदय में लाला लाजपत राय व अजीत सिंह ने महत्वपूर्ण योगदान दिया | लाला लाजपत राय ने अपने समाचार पत्र पंजाबी’ के द्वारा पंजाब के लोगों की स्थिति एवं अंग्रेजों के शोषण का वर्णन किया |
  • अजीत सिंह ने लाहौर में ‘अंजुमन – ए – मोहिसबान – ए – वतन’ नामक क्रन्तिकारी समिति का गठन किया |तथा ‘भारत माता’ नामक पत्र का प्रकाशन किया |
  • पंजाब के क्रांतिकारी आतंकवाद से जुड़े अन्य व्यक्ति थे –आगा हैदर ,सैयद हैदर रज़ा,भाई परमानन्द ,लालचंद फलक आदि |
  • दिल्ली षड्‍यंत्र केस –
    23 दिसम्बर 1912 को लार्ड हार्डिंग के काफिले पर बम फेंका गया |इस घटना में रास बिहारी बोस तथा सचिन सन्याल की मुख्य भूमिका थी |इस घटना के पश्चात् 13 व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया जिनमे मास्टर अमीरचंद्र ,अवध बिहारी ,दीनानाथ सुल्तान चंद्र ,हनुमंत सहाय ,बसंत कुमार ,बाल मुकुंद , बलराज आदि शामिल थे |इन सब पर दिल्ली षड्‍यंत्र केस के नाम पर मुकदमा चलाया गया |कुछ को फांसी दी गई व शेष को देश निकाला दिया गया |

    क्रांतिकारियों का विदेशों में गतिविधियां —
    कुछ प्रमुख स्थान / देश जहाँ क्रन्तिकारी आतंकवाद की जारी रखा गया —

    इंग्लैण्ड-
    लन्दन में क्रांतिकारी आतंकवाद का नेतृत्व मुख्यतः श्यामा जी कृष्णा वर्मा , विनायक दामोदर सावरकर ,मदनलाल ढींगरा एवं लाला हरदयाल ने किया | श्यामा जी कृष्ण वर्मा ने 1905 में ‘भारत स्वशासन समिति’ की स्थापना की जिसे ‘इंडिया हाउस’ के नाम से भी जाना जाता था |इस संस्था का उद्देश्य अंग्रेज़ सरकार को आतंकित कर स्वराज्य प्राप्त करना था |यहां से एक समाचार पत्र सोशियोलोजिक का प्रकाशन भी प्रारम्भ हुआ |लंदन से सरकारी दमन के कारण श्यामा जी पेरिस तथा बाद में जिनेवा चले गए |श्यामा जी के पश्चात् इंडिया हाउस का कार्य भार विनायक दामोदर सावरकर ने संभाला जहाँ उन्होंने ‘1857 का स्वतंत्रता संग्राम’ नामक प्रसिद्ध पुस्तक लिखी |
    1909 में मदनलाल ढींगरा ने विलियम कर्जन वाइली की हत्या कर दी |ढींगरा को गिरफ्तार कर फांसी दे दी गई |13 मार्च 1910 में नासिक षड्‍यंत्र केस में सावरकर को गिरफ्तार कर काले पानी की सजा सुनाई गई |
    फ्रांस
    यहां श्री एस आर राणा एवं श्रीमती भीकाजी रुस्तम कामा ने पेरिस से आतंकवादी गतिविधियों को जारी रखा |1906 में श्याम जी कृष्ण वर्मा लन्दन से पेरिस पहुंच गए जिससे इनकी गतिविधियां और तेज़ हो गई|
    अमेरिका तथा कनाडा
    संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में क्रांतिकारी आंदोलन का नेतृत्व लाल हरदयाल ने किया|1 नवम्बर 1913 को लाल हरदयाल ने सन फ्रांसिस्को में ‘ग़दर पार्टी’ की स्थापना की | विश्व के अनेक भागों में इनकी साख खोली गई |ग़दर दल ने 1857 के विद्रोह की स्मृति में ग़दर नमक साप्ताहिक पत्रिका का प्रकाशन भी प्रारम्भ किया |
    जर्मनी
    वीरेंद्रनाथ चटोपाध्याय ने बर्लिन को अपनी गतिविधियों का केंद्र बना लिया |इन्होंने तलवार नामक एक पत्रिका निकाली| बाद में लाल हरदयाल तथा उनके साथी भी अमेरिका से जर्मनी आ गए |



    Be the first to comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.


    *