Zero Effect Zero Defect (ZED) शून्य दोष, शून्य प्रभाव

  • Home
  • Zero Effect Zero Defect (ZED) शून्य दोष, शून्य प्रभाव

Zero Effect Zero Defect (ZED) शून्य दोष, शून्य प्रभाव

‘Zero effect Zero defect’ Zed

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (एसएमई) के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में शून्य दोष, शून्य प्रभाव (जेड) ‘Zero effect Zero defect’ योजना का शुभारंभ किया।

Zed का औचित्य
Zed के निम्न औचित्य है —

  • ज़ेड का नेतृत्व करने के लिए तालमेल के साथ लोगों, मशीनों, सिस्टम और प्रक्रियाओं की एक पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण करना|
  • Make-in-India के 25 क्षेत्रों के लिए महत्वपूर्ण धुरी साबित होना|
  • एक देश, एक क्षेत्र, एक व्यवसाय और एक व्यक्ति के परिप्रेक्ष्य में प्रतिस्पर्धा की धारणा की जांच करना|
  • रोजगार का सृजन करना और रोजगार के अवसरों को बढ़ाना|
  • पूरी तरह से पर्यावरण संरक्षण के साथ उत्पादकता और गुणवत्ता में सुधार के लिए निष्क्रिय क्षमताओं का फिर से अध्ययन करना|
  • आर्थिक विकास के लिए, कम से मध्यम अवधि में, देश की क्षमता का सूचक बनना|
  • ज़ेड मार्क: MSME के लिए एक विश्वसनीय मान्यता और विदेशी निवेशकों के लिए एक गुणवत्ता सूचक होना|
  • जागरूक बनाना, मूल्यांकन, रेटिंग, सलाह, मार्गदर्शन, पुनर्मूल्यांकन (re-assess) और सभी MSMEs को प्रमाणित करना तथा ज़ेड चरण (ladder) में
  • उनका विकास सुनिश्चित करना| इस प्रकार उनकी वैश्विक बाजार में प्रतियोगिता क्षमता को बढ़ाना तथा उन्हें “Make In India” अभियान में एक महत्वपूर्ण कड़ी बनाना|
  • ZED का क्षेत्र
    ZED के निम्न क्षेत्र है —

  • यह मॉडल निर्माण और सेवा उद्योग के सभी क्षेत्रों के लिए लागू होगा।
  • यह मॉडल MSMEs/ छोटे व्यवसायों पर केन्द्रित होगा|
  • यह मॉडल घरेलू और विदेशी ग्राहकों, समाज, कर्मचारियों, भागीदारों, नियामकों और निवेशकों की गुणवत्ता और पारिस्थितिक जरूरतों को संबोधित करेगा|
  • ZED का विजन

    वैश्विक बाजार में श्रेष्ठता की स्थिति तक तथा ‘Made In India’ छाप (mark) के माध्यम से विश्व के आपूर्तिकर्ता के रूप में भारत उद्भव का लाभ उठाने के लिए, भारतीय उद्योग की उन्नति को सक्षम बनाना|

    ZED का मिशन

    निम्न सिधान्तों के आधार पर भारत में एक ‘ज़ेड’ संस्कृति का विकास और कार्यान्वयन करना है :
    Zero Defect (ग्राहकों पर ध्यान केंद्रित करके)
    • शून्य गैर-अनुरूपता/गैर-अनुपालन
    • शून्य अपशिष्ट (Waste)
    Zero effect (समाज पर ध्यान केंद्रित करके)
    • शून्य वायु प्रदूषण/तरल निकास (ZLD)/ठोस अपशिष्ट
    • प्राकृतिक संसाधनों का शून्य क्षय|

    पारिस्थितिकी तंत्र

    • ज़ेड पारिस्थितिकी तंत्र का वातावरण तालमेल के साथ कम करने की गतिशील प्रणालियों और प्रक्रिया पर आधारित है और एक निर्धारित समय अवधि के भीतर एक विशिष्ट भूमिका निभा रही है।
    • MSMEs, इस माहौल में रहते हुए, प्रशिक्षण, मार्गदर्शन और मूल्यांकन एवं प्रमाण पत्र प्राप्त करेंगे। MSME उच्च परिपक्वता के स्तर को प्राप्त करने के लिए पुनर्मूल्यांकन का विकल्प चुन सकते हैं । रेटिंग और प्रमाणन एक निर्धारित समय अवधि के लिए मान्य होगा और इस प्रक्रिया के दौरान निगरानी भी की जाएगी|

    कार्यान्वयन संरचना

    ज़ेड के लाभ

    • ज़ेड रेटिंग भारत में निवेश की इच्छा रखने वाले अंतरराष्ट्रीय ग्राहकों और प्रत्यक्ष विदेशी निवेशकों के लिए उद्योगों की एक विश्वसनीय पहचान होगा|
    • ज़ेड को सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों और रक्षा ऑफसेट के आपूर्ति-कर्ताओं के लिए एक बेंचमार्क के रूप में बनाये जाने की संभावना है|
    • ग्राहकों के बीच छोटे व्यवसायों के प्रति विश्वास का स्तर बढ़ाने के लिए रेटिंग Flipkart, Snapdeal इत्यादि ई-कॉमर्स पोर्टलोंपर प्रदर्शित होगा|
    • MSME विक्रेताओंका प्रभावी ढंग से प्रबंधन करने और विकास करने में सक्षम होगा|
    • अंतिम उत्पाद की गुणवत्ता में सुधार होगा|
    • सरकार की भावी कराधान नीतियों में लाभ की संभावना होगी|
    • निर्देशित सहयोग के साथ उच्च ज़ेड रेटिंग प्राप्त करने के लिए विकल्प मौजूद होगा|

    Source- www.zed.org.in

    COMMENTS (4 Comments)

    Deshraj tripathi May 6, 2018

    Mera s certificate Abhi Taj prat nahin Hua hai

    Lord Mar 23, 2017

    Great work
    Thank you

    Sandra Feb 21, 2017

    I decided to leave a message here on your Zero Effect Zero Defect (ZED) शून्य दोष, शून्य प्रभाव – हिंदी – आईएएस page instead of calling you. Do you need more likes for your Facebook Fan Page? The more people that LIKE your website and fanpage on Facebook, the more credibility you will have with new visitors. It works the same for Twitter, Instagram and Youtube. When people visit your page and see that you have a lot of followers, they now want to follow you too. They too want to know what all the hype is and why all those people are following you. Get some free likes, followers, and views just for trying this service I found: http://v-doc.co/nm/39zu3

    Sanjay Ranu Singh Nov 11, 2016

    bahut hi satik jankari..dhanyabad sir

    LEAVE A COMMENT

    Search


    Exam Name Exam Date
    IBPS PO, 2017 7,8,13,14 OCTOBER
    UPSC MAINS 28 OCTOBER(5 DAYS)
    CDS 19 june - 4 FEB 2018
    NDA 22 APRIL 2018
    UPSC PRE 2018 3 JUNE 2018
    CAPF 12 AUG 2018
    UPSC MAINS 2018 1 OCT 18(5 DAYS)


    Subscribe to Posts via Email

    Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.