झारखंडी कला संस्कृति एवं साहित्य

  • Home
  • झारखंडी कला संस्कृति एवं साहित्य

झारखंडी कला संस्कृति एवं साहित्य

Click on the Link to Download झारखंडी कला संस्कृति एवं साहित्य PDF

प्रस्तावना
झारखंड लोक सेवा आयोग (जेपीएससी) की प्रारंभिक परीक्षा में मात्रा 8 दिन रह गए है आपने जो भी पढाई की है उसका एक बार रिविज़न कर ले | इसी क्रम में आज हम यहाँ पर झारखंडी कला संस्कृति व साहित्य पर चर्चा कर रहे है | और ये उम्मीद करते है की आपको परीक्षा में इससे कुछ सहायता मिलेगी |

चित्रकला
मुख्यतः तीन प्रकार की चित्रकला—

जादोपटिया चित्रकारी —

  • कपड़ा या कागज के छोटे छोटे टुकड़ो को जोड़कर बनाए जाने वाले पट्टियों पर की जाने वाली चित्रकारी |
  • मुख्यतः संथाल जनजाति में |
  • कोहबर चित्रकारी —

  • गुफा में विवाहित जोड़ा दिखाने के लिए |
  • सिकी देवी का विशेष चित्रण |
  • बिरहोर जनजाति में |
  • सोहराय चित्रकारी —

  • सोहराय पर्व से सम्बंधित , दिवाली के एक दिन बाद मनाया जाता है |
  • पशुओं को श्रद्धा अर्पित करने का पर्व |
  • देवता प्रजाति / पशुपति का विशेष चित्रण |
  • लोक गीत
    कुछ प्रमुख लोक गीत व उसके गाने के अवसर —

    इसके अलावा भी बहुत सरे झारखण्ड के लोक गीत है पर 1 नंबर के लिए उतना कौन रट्टा मारता है और भी बहुत सारी चीजे है पढ़ने के लिए लोक गीत के अलावा |

    झारखण्ड के नृत्य

    छऊ नृत्य

  • मुख्यतः सरायकेला , मयूरभंज व पुरुलिया जिले में |
  • इस नृत्य का विदेश में सर्वप्रथम प्रदर्शन 1938 में सरायकेला के राजकुमार सुधेन्दु नारायण सिंह ने करवाया था |
  • इस नृत्य में पौराणिक व ऐतिहासिक कथाओं के मंचन के लिए पात्र तरह तरह के मुखौटे धारण करते है और बिना संवाद के अभिनय के द्वारा अपने भाव को व्यक्त करते है |
  • जदुर नृत्य

  • यह नृत्य कोलोम सिंग बोंगा पर्व से सरहुल पर्व (फागुन से चैत तक) तक चलता है |यह स्त्री पुरुष का सामूहिक नृत्य है , जिसमे वे धीमी गति से लय ताल में नाचते हैं |
  • जपी/शिकार नृत्य

  • यह नृत्य सरहुल पर्व के बाद आरम्भ होता हैं व आषाढ़ी पर्व तक चलता हैं
  • करमा / लहुसा नृत्य –

  • यह नृत्य असाढ़ से सोहराय तक मनाया जाता हैं |यह एक सामूहिक नृत्य हैं | इसमें 8 पुरुष व 8 स्त्रियां भाग लेती हैं |
  • कुछ और प्रमुख नृत्य
    माघानृत्य — शीत ऋतु में
    पाइका नृत्य
    जतरा नृत्य – समूहित नृत्य

    झारखण्ड के प्रमुख लोक नाट्य

    झारखण्डी साहित्य एवं साहित्यकार
    झारखण्डी साहित्य को हम तीन भागों में बाँट कर समझने की कोशिश करेंगे —
    जनजातीय , सदानी और हिंदी साहित्य —
    जनजातीय भाषा
    जनजातीय साहित्य में हम निम्न भाषा / बोली के बारे में पढ़ेंगे —

    1.संथाली

  • यह संथाल जनजाति की भाषा है |
  • संथाली अपने भाषा को होड़ रोड़ कहते है |
  • इनका अपना व्यकरण है |
  • इनकी अपनी लिपि है जिसे ओलचिकी कहते है |इस लिपि का अविष्कार रघुनाथ मुर्मू द्वारा 1941 में किया गया |
  • 92 वे संविधान संसोधन के द्वारा संथाली भाषा को 8 वीं अनुसूची में स्थान दिया गया |
  • संथाली भाषा के प्रमुख रचनाकार है –

  • जे फिलिप्स ,इ जी मन्न ,पकसुले, कैम्पबेल , मैकफेल , डोमन साहू समीर , केवल सोरेन |
  • 2.मुण्डारी

  • मुण्डा जनजाति की भाषा का नाम मुण्डारी है | मुण्डारी भाषा के चार रूप मिलते है |
  • हसद मुण्डारी , तमड़िया मुण्डारी , केर मुण्डारी , नगुरी मुण्डारी |
  • मुण्डारी साहित्य के प्रमुख रचनाकार

  • जे सी व्हिटली , ए नॉट्रोट , एस जे डी स्मेट , फादर हॉफमैन , एस सी रॉय , W J आर्चर ,पी के मित्रा |
  • हो :

  • हो जनजाति की भाषा का नाम ‘हो’ ही है |इस भाषा की अपनी शब्दावली एवं उच्चारण पद्धति है |
  • ‘हो’ साहित्य के प्रमुख रचनाकार

  • भीमराव सुलंकी , सी एच बोम्बास , बोस , लियोनल बरो ,w g आर्चर,
  • कुडुख /उरांव

  • उरांव जनजाति की भाषा का नाम कुडुख या उरांव है |इस भाषा का लोक साहित्य बहुत संपन्न है |
  • प्रमुख रचनाकार

  • ओ फ्लैक्स , फड्रिनेंड होन ,ए ग्रीनर्ड |

  • खड़िया

  • खड़िया जनजाति की भाषा का नाम खड़िया है |
  • इसकी लिखित साहित्य विकासशील अवस्था में है |
  • प्रमुख रचनाकार

  • गगन चंद्र बनर्जी ,एस सी रॉय ,एच फ्लोर ,w C आर्चर
  • सदानी भाषा

    खोरठा

  • इसका सम्बन्ध प्राचीन खरोष्ठी लिपि से जोड़ा जाता है |
  • इसके अन्तर्गत रामगढ़िया ,देसवाली ,गोलवारी , खटहि आदि बोलियां आती है |
  • राजा – रजवाड़ो , राजकुमार- राजकुमारियां आदि की कथाएं खोरठा भाषा में मिलती है |
  • प्रमुख रचनाकार

  • भुनेश्वर दत्त शर्मा ,श्री निवास पानुरी आदि |
  • पंचपरगनिया

  • पंचपरगना क्षेत्र की प्रचलित भाषा है जिसके अन्तर्गत तमाड़ , बुंडू ,राहे, सोनाहातू एवं सिल्ली आते है |
  • प्रमुख रचनाकार

  • विनोदिया कवी , विनोद सिंह , गोरंगिया , सोबरन कवि , बरजू राम
  • कुरमाली या करमाली

  • मूलतः कुर्मी जाती की भाषा है |
  • इस लोक साहित्य समृद्ध है |
  • इसका लिखित साहित्य बहुत कम है |
  • रचनाकार

  • जगराम, बुध्धु महतो ,निरंजन महतो
  • नागपुरी

  • यह भाषा सदरी गँवारी के नाम से भी जानी जाती है |
  • यह संपर्क भाषा के रूप में पुरे झारखण्ड में प्रचलित है |
  • यह नागवंशी राजाओं की मातृभाषा है |
  • इसका अपना लिखित साहित्य है |
  • प्रमुख रचनाकार

  • व्हिटली , कोनराड , बुकाउट ,हेनरिक फ्लोर ,रघुनाथ नृपति , महाकवि घासीराम ,हुलास राम ,कंचन आदि
  • COMMENTS (3 Comments)

    Ravi Ranjan Dec 9, 2016

    http://iashindi.com/jharkhand3/

    Manoj Dec 9, 2016

    Thanks alot mentors...... It ll b really helpful for all of us..... Thanks again. Nd plz if possible or do u have all jharkhand govt. Plan nd scheme plz help us regarding thst so.....

    aman Dec 9, 2016

    last time revision ke lie bahut important . thanx

    LEAVE A COMMENT

    Search


    Exam Name Exam Date
    IBPS PO, 2017 7,8,13,14 OCTOBER
    UPSC MAINS 28 OCTOBER(5 DAYS)
    CDS 19 june - 4 FEB 2018
    NDA 22 APRIL 2018
    UPSC PRE 2018 3 JUNE 2018
    CAPF 12 AUG 2018
    UPSC MAINS 2018 1 OCT 18(5 DAYS)


    Subscribe to Posts via Email

    Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.